Veer Tejaji Biography – लोक देवता तेजाजी का इतिहास

Veer Tejaji– वीर तेजाजी महाराज को भगवान शिव के प्रमुख 11 अवतारों में से एक माना जाता है और राजस्थान, मध्य प्रदेश और गुजरात के साथ-साथ हरियाणा और उत्तर प्रदेश के कुछ आवासीय क्षेत्रों में लोक देवता के रूप में पूजा की जाती है। लोक देवता तेजाजी का इतिहास या जीवन परिचय-

Veer Tejaji Biography - लोक देवता तेजाजी का इतिहास

वीर तेजाजी महाराज की जीवनी – Veer Tejaji

कुंवर तेजपाल सिंह जी को भगवान शिव का ग्यारहवां अवतार माना जाता है और उनका जन्म नागवंशी क्षत्रिय जाट परिवार में हुआ था। वीर तेजा(Veer Tejaji) या सत्यवादी वीर तेजाजी एक राजस्थानी लोक देवता हैं। उन्हें शिव के ग्यारह प्रमुख अवतारों में से एक माना जाता है और उन्हें राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात, उत्तर प्रदेश और हरियाणा राज्यों में एक देवता के रूप में पूजा जाता है।

राजस्थान का इतिहास कई वीर कहानियों और उदाहरणों से भरा है जहां लोगों ने अपने जीवन और परिवारों को जोखिम में डाल दिया है और वफादारी, स्वतंत्रता, सच्चाई, आश्रय, सामाजिक सुधार आदि जैसे गौरव और मूल्यों को बरकरार रखा है। वीर तेजा इन प्रसिद्ध महापुरुषों में से एक थे, राजस्थान के इतिहास में मानवविज्ञानी कहते हैं कि तेजाजी एक ऐसे नायक हैं जिन्होंने जाति व्यवस्था का विरोध किया।

वीर तेजाजीहिंदू जाट
संबंधदेवता (भगवान शिव के ग्यारहवें अवतार)
हथियारभाला, तलवार और धनुष-बाण
जीवनसाथीपेमल
माता-पिताठाकुर तहाड़ देव – रामकंवारी
भाई-बहनराजल (बहन)
सवारीलीलण (घोड़ी)

वीर तेजाजी का जन्म

Veer Tejaji– तेजाजी का जन्म धौलिया गौत्र के जाट घराने परिवार में विक्रम संवत 1130 माघ सुदी चौदस (गुरुवार 29 जनवरी 1074, अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार) के दिन हुआ था। उनके पिता राजस्थान के नागौर जिले के खरनाल के मुखिया तहाड़ देव जी थे।(ठाकुर) तहाड़ जी की उपाधि थी।

उनकी माता का नाम रामकंवरी था। तेजाजी के माता और पिता भगवान शिव के उपासक थे। ऐसा माना जाता है कि सर्प-देवता के आशीर्वाद से माता राम कांवरी को पुत्र की प्राप्ति हुई थी। जन्म के समय तेजाजी की आभा इतनी प्रबल थी कि उन्हें तेजा बाबा नाम दिया गया।

ऐतिहासिक साक्ष्यों के साथ तेजाजी के जन्म का विवरण इस प्रकार है-

  • खरनाल परगना (गणपति) के शासक बोहितराज के पुत्र तहाड़ देव का विवाह विक्रम संवत 1104 में त्योद (त्रयोद) के गणपति करसन जी (कृष्ण जी) के पुत्र राव दुल्हन जी (दूल्हन जी) और रामकुंवारी के साथ संपन्न हुआ।
  • शादी के 12 साल तक रामकुवरी को कोई संतान नहीं हुई। अत: अपने वंश को आगे बढ़ाने के लिए रामकुवारी ने तहाड़ जी के न चाहते हुए भी अपने पति से दूसरी शादी कर ली।
  • यह दूसरा विवाह विक्रम संवत 1116 में कोयलापाटन (अथ्यासन) निवासी अखोजी (इंतोजी) के पौत्र करनोजी फिरौदा की पुत्री रामीदेवी से हुआ था।
  • इस विवाह का उल्लेख बालू राम के हरसोलाव निवासी बहि-भट जगदीश पुत्र सुखदेव भट आदि फिदोदों की पुस्तक में मिलता है। दूसरी पत्नी रामी के गर्भ से ताहर जी, रूपजीत (रूपजी), रंजीत (रणजी), महेशजी, नागजीत (नागजी) के पांच पुत्र हुए।
  • 12 वर्ष तक रामकुंवारी को कोई संतान नहीं हुई, इसलिए उन्होंने अपने पहर पक्ष के गुरु मंगलनाथ जी के निर्देशन में नागदेव की पूजा शुरू कर दी।
  • तहाड़ देव की दूसरी शादी हुई थी। दूसरी पत्नी से पुत्र रत्न भी प्राप्त हुआ। लेकिन रामकुंवारी ने महसूस किया कि उनकी स्थिति दोयम दर्जे की हो गई है। दो वर्ष 1116-1118 विक्रम संवत रामकुवारी इसी मनःस्थिति से गुजरे।
  • रामकुवारी ने अपने पति तहाड़ देव से परामर्श किया और अपने पति के आज्ञा से, अपने माता-पिता के गुरु संत मंगलनाथ की धूनी के पास गए, प्रार्थना की और अपना दुखड़ा सुनाया।
  • कुल गुरु ने रामकुवारी को नागदेव की विधि विधान से पूजा करने का निर्देश दिया। रामकुवारी ने त्योद के दक्षिण में स्थित जंगल में नाडा के खेजड़ी वृक्ष के नीचे 12 वर्षों तक नागदेव की बांबी की पूजा की।
  • ऐसा कहा जाता है कि विक्रम संवत 1129 में नागदेव अक्षय तृतीया पर प्रकट हुए और उन्हें एक पुत्र का आशीर्वाद दिया। तपस्या पूरी होने पर, कुलगुरु मंगलनाथ के आदेश पर, रामकुवारी अपने भाई हेमूजी के साथ खरनाल पहुंची।
  • नागदेव का वरदान फला-फूला और विक्रम संवत 1130 के माघ सुदी चौदस के अनुसार 29 जनवरी 1074 ई. को खरनाल गणराज्य में तहाड़ जी के घर तेजाजी के रूप में शेषावतार लक्ष्मण का जन्म हुआ।
  • कहा जाता है कि बच्चे के पैदा होते ही महलों में रोशनी फैल गई। लड़के के चेहरे पर चमक थी। चमकता हुआ चेहरा देखकर पिता तहाड़ देव के मुंह से अचानक निकला कि तेजा है।
  • इसलिए तेजा का नाम जन्म के बाद रखा गया। जब जोशी को बुलाकर नामकरण करवाया गया तो उन्होंने उसका नाम भी तेजा(Veer Tejaji) रखा।

वीर तेजाजी का विवाह

तेजाजी(Veer Tejaji) का विवाह पनेर गांव के मुखिया रायमलजी मुथा की पुत्री पेमल से हुआ था। पेमल का जन्म बुद्ध पूर्णिमा विक्रम ई. 1131 (1074 ई.) को हुआ था। तेजाजी(Veer Tejaji) की शादी पुष्कर में पेमल से 1074 ई. में हुई थी जब तेजा 9 महीने की थी और पेमल 6 महीने की थी। शादी पुष्कर घाट पर पुष्कर पूर्णिमा के दिन हुई थी।

पेमल के मामा का नाम खाजू-काला था, जो धोल्या परिवार से दुश्मनी रखता था और इस रिश्ते के पक्ष में नहीं था। खाजू कला और तहाड़ देव के बीच विवाद हो गया। खाजा काला इतना क्रूर हो गया कि उसने उसे मारने के लिए तहाड़ देव पर हमला किया।

तहाड़ देव को अपनी और अपने परिवार की रक्षा के लिए अपनी तलवार से खजू कला का वध करना पड़ा। इस मौके पर तेजाजी के चाचा असकरन भी मौजूद थे। यह घटना पेमल की मां को अच्छी नहीं लगी जो अब तहाड़ देव और उसके परिवार से बदला लेना चाहती थी। इस वजह से उन्हें उनकी शादी की बात नहीं बताई गई।

एक बार तेजाजी को यह बात उसकी भाभी ने ताने के रूप में बताई तो तानो से त्रस्त होकर वह अपनी पत्नी को लेने के लिए घोड़ी ‘लीलण’ पर सवार होकर अपने ससुराल पनेर चले गए। वहाँ किसी अज्ञानता के कारण ससुराल पक्ष से उनकी अवज्ञा हो गई।

गुस्साए तेजाजी(Veer Tejaji) वहां से लौटने लगे, फिर पेमल से उनकी पहली मुलाकात उनके दोस्त लच्छा गुजरी से हुई। उसी रात मेर के मीणा ने लच्छा गुजरी के गाय चुरा लिए।

रास्ते में तेजाजी को एक सांप आग में जलता हुआ मिला, तो उसने उस सांप को बचा लिया, लेकिन सांप के जोड़े के अलग होने पर वह बहुत क्रोधित हो गया और उन्हें काटने लगा, फिर उसने लौटते समय सांप को काटने का वादा किया और आगे बढ़ गया।

लाछा गूजरी की प्रार्थना पर प्रतिबद्ध, तेजाजी ने मीणा लुटेरों के खिलाफ लड़ाई लड़ी और गायों को बचाया। इस गोरक्षा युद्ध में तेजाजी बुरी तरह घायल हो गए थे। वापस लौटने पर वह वचन के पालने में सांप के बम्बी पर आया और पूरे शरीर पर घाव के कारण जीभ पर सांप को काट दिया।

भाद्रपद शुक्ल 10 संवत 1160 (28 अगस्त 1103) को किशनगढ़ के पास सुरसारा में सर्पदंश से उनकी मृत्यु हो गई और पेमल भी उनके साथ सती हो गयी। उसकी वचनबद्धता से प्रसन्न होकर उस सर्प ने उसे वरदान दिया। इस वरदान के कारण तेजाजी को सांपों के देवता के रूप में भी पूजा जाता था।

गाँव-गाँव में, तेजाजी(Veer Tejaji) के देवरे या थान में नाग देवता की मूर्ति के साथ उनकी तलवार चलाने वाली घुड़सवारी की मूर्ति है। इन देवराओ में सांप के काटने पर विष चूसा जाता है और तेजाजी की तांती बांधी जाती है। तेजाजी का निर्वाण दिवस भाद्रपद शुक्ल दशमी हर साल तेजादशमी के रूप में मनाया जाता है।

महाराजा सूरजमल जीवनी

वीर तेजाजी के मंदिर

भारत में तेजाजी(Veer Tejaji) के कई मंदिर हैं। तेजाजी का मुख्य मंदिर खरनाल में है। तेजाजी के मंदिर राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, गुजरात और हरियाणा में स्थित हैं। जाट भगवान शिव को तेजाजी(Veer Tejaji) के नाम से जानते हैं। कई शिवलिंगों में एक तेजलिंग भी है जिसके क्षत्रिय जाट उपासक थे।

पी.एन. ओक अपनी पुस्तक Tajmahal is a Hindu Temple Palace में 100 से भी अधिक प्रमाण एवं तर्क देकर दावा करते हैं कि ताजमहल वास्तव में शिव मंदिर है जिसका असली नाम तेजोमहालय है।

अभी वीर तेजाजी(Veer Tejaji) के मंदिर की नीव 9 जून 2022 रखी गई । जिससे आने वाले समय मे एक विशाल मंदिर ओर पर्यटक स्थल बनेगा जिसका नाम तेजाना होंगा और यह मंदिर अभी 400 करोड़ की लागत में बन रहा है।

NCC दिवस कब मनाया जाता है

वीर तेजाजी खरनाल मेले का आयोजन –प्रत्येक वर्ष भाद्रपद शुक्ल पक्ष की दशवीं को तेजाजी(Veer Tejaji) की याद में खरनाल गाँव में भारी मेले का आयोजन होता हे जिसमे लाखों लोगों की तादात में लोग गाजे-बाजे के सात आते हैं। सांप के ज़हर के तोड़ के रूप में गौ मूत्र और गोबर की राख के प्रयोग की शुरुआत सबसे पहले तेजाजी(Veer Tejaji) ने की थी।

जाट समाज की पूरी जानकारी

निष्कर्ष- दोस्तों, इस लेख में हमने वीर तेजाजी(Veer Tejaji) की जीवनी और उनके बारे में सारी जानकारी प्रदान की है, अगर जानकारी पसंद आयी तो कमेंट करें और पोस्ट को शेयर करें।

x