~ Advertisement ~

टाइफाइड बुखार के लक्षण, कारण, इलाज और घरेलू उपचार

नमस्कार दोस्तों, आज आपको इस आर्टिकल में हम टाइफाइड के लक्षण, कारण और टाइफाइड का इलाज या घरेलू उपचार बताएंगे। तो पोस्ट को पूरा पढ़ें और टाइफाइड के इलाज के बारें में जानकरी प्राप्त करें-

Typhoid ki medicine
Typhoid ki medicine
~ Advertisement ~

टाइफाइड क्या है ?

विश्व स्वास्थ्य संगठन के नए अनुमानों के अनुसार, वैश्विक स्तर पर हर साल टाइफाइड से 28,000 से 1,61,000 के बीच मौतें होती हैं। डब्ल्यूएचओ के अनुसार दुनिया भर में हर साल इस जीवाणु रोग के 11 से 21 मिलियन मामले सामने आते हैं।

टाइफाइड भारत के साथ-साथ अन्य दक्षिण पूर्व एशियाई देशों, अफ्रीका, मध्य, दक्षिण अमेरिका और पश्चिमी प्रशांत देशों में अधिक आम है। इन इलाकों में पानी की खराब गुणवत्ता के साथ-साथ सीवेज की सफाई पर भी ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता है।

टाइफाइड एक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल संक्रमण है जो साल्मोनेला टाइफी के कारण होता है। तेज बुखार, दस्त और उल्टी टाइफाइड के मुख्य लक्षण हैं। दूषित पानी या भोजन के माध्यम से यह जीवाणु संक्रमण होने की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है।

~ Advertisement ~

टाइफी मुंह के माध्यम से आपकी आंतों में प्रवेश करती है और वहां लगभग एक से तीन सप्ताह तक रहती है। यह तब आंतों की दीवार के माध्यम से आपके रक्तप्रवाह में प्रवेश करता है।

रक्त के माध्यम से, ये टाइफाइड बैक्टीरिया अन्य ऊतकों और अंगों में फैल जाते हैं और कोशिकाओं के अंदर छिप जाते हैं, जिनका पता आपकी प्रतिरक्षा कोशिकाएं भी नहीं लगा सकती हैं। टाइफाइड का बेहतर इलाज उपलब्ध है।

हालांकि, अगर अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो यह आपके लिए घातक हो सकता है। टाइफाइड की संभावित जटिलताओं में गुर्दे की विफलता, गंभीर जीआई रक्तस्राव आदि शामिल हैं।

~ Advertisement ~

लिवर रोग – कारण, प्रकार, लक्षण और इलाज

टाइफाइड का हिंदी नाम

आंत्र ज्वर जीवन के लिए एक खतरनाक रोग है जो कि सलमोनेल्ला टायफी नामक जीवाणु से होता है। आंत्र ज्वर (टाइफायड) को सामान्यतः एंटीबायोटिक दवाइयों से रोका तथा इसका उपचार किया जा सकता है। इसे मियादी बुखार भी कहा जाता है।

Dengue ki dawa

टाइफाइड का दूसरा नाम

टाइफाइड बुखार साल्मोनेला टाइफी (एस टाइफी) बैक्टीरिया के संक्रमण से होता है। भारत में यह बीमारी आम है। यहां इसे मोतीझरा या मियादी बुखार के नाम से भी जाना जाता है।

टाइफाइड के लक्षण

टाइफाइड के रोगियों को बैक्टीरिया के संपर्क में आने के लगभग 1-3 सप्ताह बाद लक्षण दिखाई देते हैं। रोग की अवधि गंभीरता के आधार पर 3 से 4 सप्ताह तक हो सकती है। सामान्य ऊष्मायन समय 7 से 14 दिन है।

  • सिरदर्द
  • कब्ज या दस्त
  • तेज बुखार (103 डिग्री फारेनहाइट)
  • भूख में कमी
  • यकृत और प्लीहा का बढ़ना
  • छाती पर लाल निशान
  • थकान
  • ठंड लगना
  • दर्द और कमजोरी
  • पेटदर्द

पेट दर्द की दवा और घरेलु उपचार

टाइफाइड के कारण

टाइफाइड बुखार तब होता है जब कोई व्यक्ति ऐसे खाद्य पदार्थ और पानी का सेवन करता है जिसमें एस टाइफी बैक्टीरिया अधिक मात्रा में होता है।

इसके अलावा, टाइफाइड के रोगी का मल उसके आसपास के पानी की आपूर्ति को भी दूषित कर सकता है। बदले में, रोगी के आसपास की खाद्य आपूर्ति श्रृंखला भी दूषित हो सकती है।

Sir dard ke gharelu upchar

टाइफाइड का निदान

यदि आपके लक्षणों को देखने के बाद, डॉक्टर को लगता है कि यह टाइफाइड हो सकता है, तो वह कुछ परीक्षण करने के लिए कह सकता है।

यह पता लगाने के लिए कि क्या आपके शरीर में साल्मोनेला टाइफी मौजूद है, आपको रक्त, मल, मूत्र संस्कृति या अस्थि मज्जा परीक्षण करने की आवश्यकता हो सकती है।

टाइफाइड बैक्टीरिया के लिए बोन मैरो कल्चर को सबसे संवेदनशील परीक्षण माना जाता है। टाइफाइड डीएनए और एंटीबॉडी की जांच के लिए डॉक्टर अन्य रक्त परीक्षण भी सुझा सकते हैं।

Pet dard ki tablet

टाइफाइड का इलाज

टाइफाइड के इलाज के लिए आमतौर पर सिप्रोफ्लेक्सिन और सेफ्ट्रिएक्सोन जैसे एंटीबायोटिक्स दिए जाते हैं। इसके उपचार के लिए एज़िथ्रोमाइसिन भी एक अन्य विकल्प है।

हालांकि, इन्हें गर्भवती महिलाओं को खाने के लिए नहीं दिया जाता है। टाइफाइड के गंभीर मामलों में कई बार आंतों में वेध हो जाता है, जिसे सर्जरी के जरिए ही ठीक किया जा सकता है।

लिवर रोग – कारण, प्रकार, लक्षण और इलाज

टाइफाइड का आयुर्वेदिक इलाज

ये है आयुर्वेदिक उपायटाइफाइड बुखार से निजात पाने के लिए आपको करना ये है कि खूबकला दो-तीन ग्राम, पांच मुनक्के और तीन-पांच अंजीर को 400 ग्राम पानी में डालकर गर्म करें।

वहीं, जब इसमें 100 ग्राम पानी बचें, तो इन सभी को अच्छे से मिला लें। इसके बाद आपका काढ़ा तैयार है, जिसका सेवन आपको रोजाना सुबह-शाम करना है।

बीयर से पथरी का इलाज कैसे करें?

टाइफाइड की इंग्लिश दवा

दिल के दौरे या स्ट्रोक का जोखिम कम करने के लिए दी जाने वाली दवा स्टैटिन्स टायफाइड बुखार, क्लैमाइडिया और मलेरिया जैसे रोगों के से लड़ने में भी मदद कर सकती हैं।

दाद खाज खुजली को जड़ से मिटाए

टाइफाइड से बचाव

  1. वैक्सीन शॉट: यह इंजेक्शन 2 साल से ऊपर के लोग ले सकते हैं। उच्च जोखिम वाली श्रेणी के लोगों के लिए इस खुराक के बार-बार सेवन की सलाह दी जाती है।
  2. ओरल वैक्सीन: यह 6 साल से अधिक उम्र के लोगों को दी जा सकती है। यह 4 गोलियों के पैक में आता है, जिनमें से तीन को वैकल्पिक दिनों में लिया जाना है।

डॉक्टर आपको आखिरी गोली एक हफ्ते पहले लेने की सलाह दे सकते हैं जब आपको उच्च टाइफाइड प्रभावित क्षेत्र में जाना हो। सभी कैप्सूल भोजन से एक घंटे पहले लेना चाहिए। इन कैप्सूल्स को फ्रिज में रखना जरूरी है। उच्च जोखिम वाले क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए डॉक्टर हर 5 साल में इस टीके की बूस्टर खुराक की सलाह देते हैं।

दोस्तों, आपको इस पोस्ट में हमने टाइफाइड के लक्षण, कारण, उपचार, निदान, इलाज और बचाव के बारे में काफी जानकारी दी है। अगर आपको टाइफाइफ की दवा के बारे में लिखा पोस्ट पसंद आए तो कमेंट करें और शेयर करें।

~ Advertisement ~