रावत जाति का इतिहास : रावत शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई?

Rawat Caste क्या है और रावत जाति की उत्पत्ति कैसे हुई, इसके साथ साथ आपको रावत जाति के इतिहास के बारे में भी बात करेंगे। रावत जाति के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए पोस्ट को पूरा पढ़ें-

Rawat Caste

रावत जाति

रावत एक भारतीय उपनाम है। यह आमतौर पर राजा या राजकुमार का पर्यायवाची है, और माना जाता है कि यह वीरता के सम्मान में राजाओं द्वारा दी जाने वाली एक प्रकार की उपाधि थी, जो वंश में नाम से पहले लिखने की प्रथा बन गई।

रावत ब्राह्मण, राजपूत, गुर्जर, जाट, पासी समाज में पाए जाते हैं। रावत उपनाम वाले राजपूत, जाट और ब्राह्मण मुख्य रूप से राजस्थान, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड में केंद्रित हैं, जिनमें से बहुत कम संख्या में पाए जाते हैं और उत्तराखंड के पड़ोसी नेपाल तक फैले हुए हैं।

रावत प्राचीन काल के ऐसे ही महान योद्धा थे। जो राजा के बाद सबसे अधिक पूजनीय स्थान रखता था। उनके पराक्रम, पराक्रम, पराक्रम के कारण शत्रु उनसे डरते थे। अंग्रेजों को भी इनसे हार का सामना करना पड़ा।

जिसके कारण यह भारत में स्वतंत्र उपनाम वाली एकमात्र जाति बनी रही। रावत उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले की भीटी रियासत की यादव (अहीर) जाति से आते हैं। रावत मूल रूप से मध्य प्रदेश के क्षत्रिय वर्ग के हैं।

रावत जाति की उत्पत्ति

मुख्य रूप से राजस्थान का एक सामाजिक समुदाय, जहां उनकी अधिकांश आबादी केंद्रित है। भूमि अभी भी रावत लोगों के जीवन का मुख्य आधार है।

आधुनिक समय में रावत समाज के लोग तरह-तरह के काम कर रहे हैं, लेकिन रावत वंश के ज्यादातर लोग कृषि प्रेमी रहे हैं और खेती करते हैं। आधुनिक समय में भी 81% रावत कृषि करते हैं।

रावत जाति की कुलदेवी

रावत समुदाय के लोगों ने अपनी कुलदेवी मां चंडीदेवी की स्थापना की थी, तभी से समुदाय के लोग अखाती के त्योहार को मेले के रूप में मनाते आ रहे हैं।

रावत जाति का इतिहास

इतिहासकार बताते हैं कि रावत शब्द राजपूत का ही अपभ्रंश है। राजपूत काल में रावत जाति नहीं, बल्कि चौहान, गहलोत, परमार, सिसोदिया, पवार, गढ़वाल आदि राजघरानों के पास एक शक्तिशाली शासक वर्ग की उपाधि थी, जो दरबार में सम्मान और बड़प्पन का सूचक था। इन शाही परिवारों में रावत की उपाधि से सम्मानित वीर योद्धा रावत-राजपूत कहलाते थे।

पश्चिमी भारत में रावत जाति

मुख्य रूप से राजस्थान का एक सामाजिक समुदाय, जहां उनकी अधिकांश आबादी केंद्रित है। भूमि अभी भी रावत लोगों के जीवन का मुख्य आधार है। आधुनिक समय में रावत समाज के लोग तरह-तरह के काम कर रहे हैं।

लेकिन रावत वंश के ज्यादातर लोग कृषि प्रेमी रहे हैं और खेती करते हैं। आधुनिक समय में भी 81% रावत कृषि करते हैं। रावत महासभा, जिसका मुख्यालय अजमेर में है, इसी समुदाय का एक संगठन है।

रावत किस जाति में आते हैं?

इतिहासकारों के अनुसार राजपूत छत्तीस कुलों में क्षत्रियों का समूह है, रावत जाति का नहीं। बाद में उपाधि लिखने के कारण उन्होंने एक जाति का रूप धारण कर लिया, जो वर्तमान में मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, कर्नाटक, हिमाचल और अन्य राज्यों में रावत-राजपूत के नाम से निवास करती है।

रावत जाति की गोत्र

ग्वालियर संभाग एवं मालवा क्षेत्र में रावत उपाधि धारकों के मूल एवं उनकी शाखाएं, जिनकी पहचान ठाकुर/कटारिया/राजपूत के रूप में हुई है। सिकरवार क्षत्रिय – सूर्यवंश की एक शाखा है। गोत्र – भारद्वाज, शांडिल्य, संकृति। प्रवर – तीन – भारद्वाज, बृहस्पति, अंगिरस।

रावत जाति कि भाषाएँ

रावत समुदाय के लोग जगह के अनुसार मेवाड़ी, मारवाड़ी, धुंदरी, कुमाऊंनी, गढ़वाली, अवधी, ब्रजभाषा, मैथिली, भोजपुरी बुंदेली भाषा या बोलियां बोलते हैं।

जाटव जाति का इतिहास और अन्य जानकारी
गुप्ता जाति की उत्पत्ति और गुप्ता गोत्र लिस्ट

दोस्तों, इस लेख में रावत जाति के बारे में जानकारी प्रदान की है जिसमे मुख्य रूप से रावत जाति की उत्पत्ति, रावत जाति का इतिहास और रावत जाति की कैटेगरी इत्यादी है। अगर जानकारी पसंद आयी तो कमेंट करें और पोस्ट को शेयर करें।