लोधी समाज का इतिहास : लोधी शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई?

Lodhi Caste क्या है, यहाँ आप लोधी जाति के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे। इस लेख में आपको लोधी जाति के बारे में हिंदी में जानकारी मिलेंगी।

Lodhi Caste

लोधी जाति क्या है? इसकी कैटेगरी, धर्म, जनजाति की जनसँख्या और रोचक इतिहास के बारे में जानकारी पढ़ने को मिलेगी आपको इस लेख में।

जाति का नामलोधी जाति
लोधी जाति की कैटेगरीअन्य पिछड़ा वर्ग (OBC)
लोधी जाति का धर्महिंदू धर्म

अगर बात करें लोधी जाति की तो लोधी जाति कौनसी कैटेगरी में आती है? लोधी जाति के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए पोस्ट को पूरा पढ़ें। तो आओ शुरू करतें है लोधी जाति के बारे में:

लोधी जाति

लोधी (लोढ़ा, लोध) भारत में पाई जाने वाली एक किसान जाति है। वे मध्य प्रदेश में बहुतायत में पाए जाते हैं, जहां ये लोग उत्तर प्रदेश से पलायन कर गए हैं। लोधी ‘अन्य पिछड़ा वर्ग’ की एक जाति है।

लेकिन इस जाति के लोग राजपूतों से संबंधित होने का दावा करते हैं और ‘लोधी-‘ राजपूत कहलाना पसंद करते हैं। जबकि, उनके राजपूत मूल से उद्धृत होने का कोई प्रमाण नहीं है, और न ही इन लोगों के बीच राजपूत परंपराएं प्रचलित हैं।

लोधी जाति की उत्पत्ति

ब्रिटिश प्रशासक रॉबर्ट वेन रसेल ने लोधी शब्द की उत्पत्ति के बारे में निम्नलिखित संभावित बातों का उल्लेख किया है। रसेल के अनुसार, उत्तर भारत में, ये लोग लोध या लोध की पत्तियों और छाल से रंग बनाते थे, जिसके कारण उन्हें लोधी कहा जाता था।

रसेल ने यह भी उल्लेख किया है कि वह मूल रूप से पंजाब के लुधियाना का रहने वाला था और वहां लोढ़ा के नाम से जाना जाता था। मध्य प्रान्त के लुधियाना से विस्थापित होने के बाद मोहभंग होने पर वे लोधी कहलाने लगे।

लोधी जाति की कैटेगरी

मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान, छत्तीसगढ़, दिल्ली आदि राज्यों में उन्हें अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

लोधी समाज की कुलदेवी

यादव, डॉ. अनूप रंजन मिश्रा, डॉ. कमला रामबिंद। महादेव से जुड़े लोग महादेव को अपना कुलदेवता और माता पार्वती को कुलदेवी मानते हैं।

लोधी जाति का इतिहास

लोधी को उत्तर भारत से विस्थापित बताया गया है, जहां से ये लोग मध्य भारत में बसे थे। ऐसा करने से उनका सामाजिक स्तर ऊंचा हो गया और ये लोग ब्राह्मण, बनिया और राजपूत आदि से नीचे के स्थानीय शासक और जमींदार बन गए।

इनमें से कुछ बड़े जमींदार ‘ठाकुर’ की उपाधि प्राप्त करने में सक्षम थे, और कुछ लोधी परिवार दमोह और सागर में पन्ना के मुस्लिम शासक द्वारा जिलों को राजा, दीवान और लम्बरदार कहा जाता था। में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

1857 की क्रांति: 1857 की क्रांति में लोधी ने भारत के विभिन्न हिस्सों में अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी। हिंडोरिया राज्य के लोधी तालुकदार जिले के प्रधान कार्यालय की ओर मार्च कर राजकोष लूटने में शामिल थे, जबकि शारपुरा आदि के लोधी ने स्थानीय पुलिस का पीछा किया और घुघरी गांव को भी लूट लिया।

20वीं सदी की जाति की राजनीति: भारत की 1911 की जनगणना के बाद, लोदी राजनीतिक रूप से एकजुट होने लगे और 1921 की जनगणना से पहले, उन्होंने ‘फतेहगढ़’ में एक सम्मेलन में ‘लोदी राजपूत’ नाम का दावा किया।

1929 के सम्मेलन में, “अखिल भारतीय लोधी क्षत्रिय (राजपूत) महासभा” का गठन किया गया था। सदी के पूर्वार्ध में, महासभा द्वारा लोधी के राजपूत या क्षत्रिय दावे के समर्थन में कई पुस्तकें प्रकाशित की गईं।

जिनमें 1912 का “महलोधी विवेचना” और 1936 का “महलोधी विवेचना” शामिल है। लोधी राजपूत इतिहास” प्रमुख है।

लोधी जाति की जनसंख्या

यह मुख्य रूप से मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, राजस्थान, दिल्ली आदि राज्यों में पाया जाता है। मध्य प्रदेश में इनकी बड़ी आबादी है, यहाँ वे उत्तर प्रदेश से विस्थापित होकर बस गए हैं। वे हिंदू धर्म में विश्वास करते हैं।

अन्य जातियों के बारे में जानकारी
Kalwar Caste – कलवार जातिKoeri Caste – कोइरी जाति
Manihar Caste – मनिहार जातिNai Caste – नाई जाति
Pasi Caste – पासी जातिBairwa Caste – बैरवा जाति
Karmakar Caste – कर्मकार जातिBrar Caste – बरार जाति
Shergill Caste – शेरगिल जातिSaharan Caste – सहारण जाति

हम उम्मीद करते है की आपको लोधी जाति के बारे में सारी जानकारी हिंदी में मिल गयी होगी, हमने लोधी जाति के बारे में पूरी जानकारी दी है और लोधी जाति का इतिहास और लोधी जाति की जनसँख्या के बारे में भी आपको जानकारी दी है।

Lodhi Caste की जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी, अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो हमे कमेंट में बता सकते है। धन्यवाद – आपका दिन शुभ हो।