धानुक जाति का इतिहास : धानुक शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई?

Dhanuk Caste क्या है, यहाँ आप धानुक जाति के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे। इस लेख में आपको धानुक जाति के बारे में हिंदी में जानकारी मिलेंगी।

Dhanuk Caste

धानुक जाति क्या है? धानुक जाति की उत्पत्ति, कैटेगरी, धर्म, जनजाति की जनसँख्या और रोचक इतिहास के बारे में जानकारी पढ़ने को मिलेगी आपको इस लेख में।

जाति का नामधानुक जाति
धानुक जाति की कैटेगरीअन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी)
धानुक जाति का धर्महिंदू धर्म

अगर बात करें धानुक जाति की तो धानुक जाति कौनसी कैटेगरी में आती है? धानुक जाति के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए पोस्ट को पूरा पढ़ें। तो आओ शुरू करतें है धानुक जाति के बारे में :-

धानुक जाति

धानुक/धनक एक जातीय समूह है जिसके सदस्य भारत, नेपाल और बांग्लादेश में पाए जाते हैं। भारत में, धानुक मूल रूप से बिहार, झारखंड, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल राज्यों में विभिन्न नामों / जातियों से जाने जाते हैं।

भारत में वर्तमान धानुक समाज की स्थिति ऐतिहासिकता जनसंख्या हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली, पंजाब, महाराष्ट्र यह देश की अनुसूचित जातियों में एक प्रमुख जाति है।

इस जाति (धानुक, धनुक) को हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, चंडीगढ़ और दिल्ली में अनुसूचित जाति घोषित किया गया है।

अनुसूचित जनजातियां 1901 और 1977 में, राजस्थान और महाराष्ट्र में धानुक को अनुसूचित जनजाति घोषित किया गया। 1978 में मध्य प्रदेश में ढांका को अनुसूचित जनजाति श्रेणी में घोषित किया गया है।

उन्हें पिछड़ी जाति का दर्जा दिया गया है। नेपाल में वे सप्तरी, सिराहा और धनुषा के तराई जिलों में बसे हुए हैं। वे या तो क्षत्रिय हैं या अल्पसंख्यक मूलनिवासी हैं।

पूर्वी तराई के धानुक मंडल और पश्चिमी तराई के धनुक को ‘पटेल’ कहा जाता है। धानुक जसवार को बिहार में कुर्मी के नाम से भी जाना जाता है।

उनके उपनाम सिंह, महतो, मंडल, रावत, पटेल, सिन्हा, विश्वास आदि पूरे बिहार में हैं। धानुक तीनों देशों में हिंदू हैं, और मैथिली, भोजपुरी और अवधी जैसी हिंदी की विभिन्न बोलियां बोलते हैं।

धानुक शब्द संस्कृत शब्द “धनुषकः” से बना है, जिसका अर्थ है – धनुर्धर, धनुर्धर या धनुष चलाने वाला।

धानुक जाति की कैटेगरी

यह जाति बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के रूप में सूचीबद्ध है। अन्य राज्यों जैसे उत्तर प्रदेश, हरियाणा, मध्य प्रदेश, गुजरात, दिल्ली आदि में उन्हें अनुसूचित जाति के रूप में वर्गीकृत किया गया है।

धानुक जाति का इतिहास

धानुक जाति प्राचीन काल में एक बहादुर समुदाय था, जिसका काम सेना में धनुष-बाण चलाना था। धनुक जाति का गौरवशाली इतिहास रहा है।

यह जाति अपने त्याग, बलिदान और वीरता के लिए जानी जाती है। इतिहास के प्रारंभिक दौर में इस जाति को योद्धा जाति कहा जाता था।

धानुक जाति के गोत्र

धानुक जाति क्षत्रिय हैं या अल्पसंख्यक मूलनिवासी हैं। पूर्वी तराई के धनुकों को मंडल के रूप में भी जाना जाता है और पश्चिमी तराई के धानुक को ‘पटेल’ कहा जाता है।

धानुक जसवार को बिहार में कुर्मी के नाम से भी जाना जाता है। उनके उपनाम सिंह, महतो, मंडल, रावत, पटेल, सिन्हा, विश्वास आदि पूरे बिहार में हैं।

हरियाणा में धानुक जाति

हरियाणा में धानुक जाति– हरियाणा में, उन्हें बुनकरों के समूह डेलु के नाम से जाना जाता है। परंपरागत रूप से धनुष-बाण बनाना और चलाना इस जाति का पेशा रहा है।

धानुक जाति प्राचीन काल में एक बहादुर समुदाय था, जिसका काम सेना में धनुष-बाण चलाना था। धानुक जाति का गौरवशाली इतिहास रहा है।

धानुक जाति उत्तर प्रदेश

उन्हें पिछड़ी जाति का दर्जा दिया गया है। नेपाल में वे सप्तरी, सिराहा और धनुषा के तराई जिलों में बसे हुए हैं। वे या तो क्षत्रिय हैं या अल्पसंख्यक मूलनिवासी हैं। पूर्वी तराई के धानुक को मंडल के रूप में भी जाना जाता है और पश्चिमी तराई के धनुकों को ‘पटेल’ कहा जाता है।

बिहार में धानुक जाति का प्रतिशत

बिहार में 82% हिंदू, 51% ओबीसी आबादी, मोटे तौर पर कहा जाता है कि बिहार में 14.4% यादव समुदाय, कुशवाहा यानी कोइरी 6.4%, कुर्मी 4%, भूमिहार 4.7%, ब्राह्मण 5.7%, राजपूत 5.2% और कायस्थ 1.5% हैं।

अन्य जातियों के बारे में जानकारी
Kalwar Caste – कलवार जातिKoeri Caste – कोइरी जाति
Manihar Caste – मनिहार जातिNai Caste – नाई जाति
Pasi Caste – पासी जातिBairwa Caste – बैरवा जाति
Karmakar Caste – कर्मकार जातिBrar Caste – बरार जाति
Shergill Caste – शेरगिल जातिSaharan Caste – सहारण जाति

हम उम्मीद करते है की आपको धानुक जाति के बारे में सारी जानकारी हिंदी में मिल गयी होगी, हमने धानुक जाति के बारे में पूरी जानकारी दी है और धानुक जाति का इतिहास और धानुक जाति की जनसँख्या के बारे में भी आपको जानकारी दी है।

Dhanuk Caste की जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी, अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो हमे कमेंट में बता सकते है। धन्यवाद – आपका दिन शुभ हो।