साबूत धनिया खाने के जानिए सेहतमंद फायदे और नुकसान

धनिये का नियमित सेवन अपने जीवाणुरोधी गुणों के कारण खाने-पीने से होने वाले रोगों से बचाता है। आप धनिया अपने भोजन या अतिरिक्त स्वाद के लिए सलाद में इस्तेमाल कर सकते हैं। आपको इसका नियमित रूप से आहार में उपयोग करना चाहिए।

Dhaniya Ke Fayde
Dhaniya Ke Fayde

वजन घटाने के लिए धनिया पानी

यदि आप मेटाबोलिज्म बढ़ाने और वसा को जलने वाले खाद्य पदार्थ का उपभोग करते हैं तो आपका वजन कम हो सकता है। इसलिए अगर आप अपना वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं तो धनिये के बीज का उपयोग करें।

जो आपके लिए काफी फायदेमंद होगा। इसके लिए आप तीन बड़े चम्मच धनिये के बीज को एक गिलास पानी में उबालें। जब पानी आधे से कम हो जाए तो इसे छान लें और प्रतिदिन दो बार इसका सेवन करें।

आयुर्वेद के अनुसार, धनिया के बीज से बना काढ़ा रक्त में लिपिड के स्तर को कम कर देता है। इसके बीज और पत्तियों में मौजूद स्टेरोल शरीर में कोलेस्ट्रॉल के अवशोषण को रोकते हैं, जिससे वजन नहीं बढ़ता है।  

थायराइड के लिए धनिया का पानी

यदि आपको ‎हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायराइडिज्मज जैसी थाइरोइड की समस्याएं हैं तो आप धनिये के बीज का सेवन करें। इसका उपयोग हार्मोन को नियमित करता है।

इसमें उच्च प्रकार के विटामिन, खनिज, और एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो थायराइड की समस्या में बहुत लाभदायक होते हैं। इसके लिए आप धनिया का काढ़ा, धनिया की स्मूदी या धनिया का पानी अपने आहार के रूप में उपयोग करें।  

धनिया खाने के फायदे पाचन के लिए

यदि आपको पाचन सम्बंधित समस्या है तो आप धनिया का सेवन करें। यह सूजन को भी कम करने में मदद करता है। धनिया पाचन तंत्र के अन्य लक्षण जैसे गैस, सूजन और चिड़चिड़ापन आदि से छूटकारा दिलाने में मदद करता है।

इसका उपयोग आंतों को पोषक तत्वों को बेहतर ढंग से अवशोषित करने में मदद करता है। इसके लिए आप नारियल के दूध और ककड़ी या तरबूज जैसे अन्य ठंडे पदार्थों के साथ एक बड़ा चम्मच धनिये के बीज को मिलाकर स्मूदी बना लें और सेवन करें।  

धनिया पाउडर और मिश्री के फायदे

धनिया में इंफेक्शन को दूर करने का गुण होता है वहीं मिश्री के साथ खाने से चेहरे की चमक बरकरार रहती है। इसमें धनिया मिलाकर उसमें मिश्री मिलाकर सेवन करें। अगर धनिये के बीज और मिश्री का सेवन नियंत्रित तरीके से किया जाए तो यह चेहरे से लेकर माहवारी तक की समस्याओं में मददगार साबित होता है।

धनिया के बीज के नुकसान

धनिया के बीज का अत्यधिक मात्रा में सेवन करने से रक्त में शुगर की मात्रा सामान्य से घट सकती है जिससे लो ब्लड शुगर की समस्या उत्पन्न हो सकती है ।

मधुमेह के रोगियों को दवा का सेवन करने के साथ – साथ धनिया के बीज का अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए । लंबे समय तक धनिया के बीज का सेवन करने से लिवर संबंधी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं ।

गर्भवती महिलाओं एवं स्तनपान करा रही महिलाओं को धनिया के बीज का अधिक मात्रा में इस्तेमाल करने से बचना चाहिए । धनिया के बीज का प्रभाव प्रजनन ग्रंथि पर प्रभाव पड़ता है जिससे भ्रूण एवं प्रजनन ग्रंथि को नुकसान भी पहुंच सकता है ।

धनिया के बीज के प्रति संवेदनशील वाले व्यक्तियों को त्वचा पर इसके इस्तेमाल से बचना चाहिए अन्यथा इससे उनकी त्वचा पर खुजली , जलन एवं सूजन की समस्या उत्पन्न हो सकती है ।

कुछ लोगों को धनिया के बीज के इस्तेमाल से सांस लेने में कठिनाई , चक्कर आना एवं एलर्जी की समस्या हो सकती है । इसीलिए यदि धनिया के बीज का सेवन करने के बाद इस तरह का अनुभव होता है तो डॉक्टर का परामर्श अवश्य ले ले

धनिया के बीज में पाए जाने वाले पोषक तत्व

धनिया के बीज में एनर्जी , प्रोटीन , फैट , कार्बोहायड्रेट , फाइबर , आयरन , फास्फोरस , कैल्शियम , मैग्नीशियम , जिंक , पोटैशियम , सोडियम , विटामिन C , नियासिन , राइबोफ्लेविन , थायमिन , लिनोलिक एसिड , मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड , सैचुरेटेड फैटी एसिड , पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड आदि जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं ।  

पैर दर्द की बेस्ट दवाई कौनसी है?

धनिया के बीज के उपयोग का तरीका

धनिया के बीज को खड़े मसाले के रूप में , हल्का – हल्का भूनकर सूप में डालकर , सब्जी एवं समोसे में तड़का लगाने के लिए , भूने हुए धनिया के बीजों को मसाले में मिलाकर , धनिया के बीज को पानी में भिगोकर उस पानी को त्वचा पर , धनिया के बीज को उबालकर चाय में डालकर एवं पिज्जा या अन्य स्नैक्स बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है  

जुकाम की दवाई और घरलू उपचार