सिस्टोन टैबलेट क्या है – इस्तेमाल, फायदे और साइड इफेक्ट्स

नमस्कार दोस्तों, सिस्टोन टेबलेट के बारे में और सिस्टोन टेबलेट का उपयोग, सिस्टोन टेबलेट के नुकसान और सिस्टोन टेबलेट की कीमत के बारे में पूरी जानकारी के लिए पोस्ट को अंत तक पढ़े-

Cystone Tablet Uses in Hindi

सिस्टोन टैबलेट

हिमालया सिस्टोन एक से अधिक जड़ी बूटियों तथा खनीजों का मिश्रण है। हिमालया सिस्टोन टेबलेट आपके गुर्दे तथा मूत्र मार्ग को स्वास्थ्य रखता है, तथा संक्रमण मुक्त रखने में मदद करता है। हिमालय सिस्टोन टेबलेट आपके गुर्दे में मौजूद पथरी को भी निकालने में मदद करता है।

गुर्दा हमारे पूरे मूत्रमार्ग को प्रभावित करता है। अगर गुर्दे में किसी भी प्रकार का संक्रमण या पथरी मौजूद हो तो मूत्र आसानी पूर्वक बाहर नहीं निकल पाता है, तथा मूत्र अस्थाई रूप से गुर्दे में एकत्रित होने लगता है।

हिमालय सिस्टोन टेबलेट का उपयोग इन सभी समस्याओं को कम कर सकती है, और खत्म करने में मदद करती है।

Multivitamin Tablet – मल्‍टीविटामिन के फायदे और नुकसान

सिस्टोन में पाई जाने वाली सामग्रियां

हिमालय सिस्टोन एक आयुर्वेदिक दवा है इसका निर्माण 1 से अधिक जड़ी-बूटियों तथा खनिजों को मिलाकर किया गया है।

सामग्रियाँ मात्रा
शीलापुष्पा130 mg
पाषाणवेदा98 mg
मंजिष्ठा32 mg
नागारमुस्ता32 mg
अपामार्गा32 mg
गोजी32 mg
सहदेवी32 mg
चूर्ण 
हजरुल यहूद भस्म32 mg
शिलाजीत26 mg

Sinarest Tablet – फायदे, नुकसान और मूल्य

सिस्टोन टैबलेट के उपयोग

हिमालया सिस्टोन टेबलेट एक से अधिक बीमारियों को कम करने तथा ठीक करने में सक्षम है। हिमालय सिस्टोन टेबलेट हमारे गुर्दे में बनी हुई पथरी को छोटा कर उसे बाहर निकालने में मदद करता है।

हिमालय सिस्टोन टेबलेट का उपयोग हमारे मूत्रमार्ग के संक्रमण तथा उसमें उत्पन्न जलन को भी दूर करता है। यह मूत्र के pH को सामान्य रखता है तथा पेशाब में उत्पन्न किसी भी तरह के जलन से दूर करता है तथा मूत्र मार्ग में हुए सूजन को खत्म करता है।

  • गुर्दे का संक्रमण (Renal infection)
  • गुर्दे की पथरी (Kidney stone)
  • मूत्र नली का संक्रमण (Urinary tract infection)
  • मूत्र नली का जलन (Urinary tract irritation)
  • आंतों का संक्रमण (Intestinal infection)
  • प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार (Improve immune system)

Sinarest Tablet – फायदे, नुकसान और मूल्य

हिमालया सिस्टोन टैबलेट की खुराक

सभी दवाइयों की खुराक बीमारी की जटिलता और व्यक्ति के उम्र तथा वजन पर निर्भर करता है अगर बीमारी की जटिलता ज्यादा होगी तो दवाइयों की खुराक को भी बढ़ाया जा सकता है। अगर किसी व्यक्ति का वजन ज्यादा होता है उस संदर्भ में भी दवाइयों की खुराक को बढ़ाया जा सकता है।

कभी-कभी बीमारियों की जटिलता और व्यक्ति के वजन को देखते हुए दवाइयों की खुराक को दोगुना करना पड़ सकता है। इसके लिए जरूरी है कि दवाइयों के संपूर्ण खुराक को जानने के लिए आप अपने नजदीकी डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

शुरुआती दौर में 2 टैबलेट 2 बारसुबह-शाम उसके बाद 1 टेबलेटदो बार सुबह-शाम

किसी भी आयुर्वेदिक दवा कि काम करने की क्षमता धीरे होती है लेकिन वह काम जरूर करता है। इसलिए जब भी आप आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल करें यह सोचकर करें कि उसका उपयोग कुछ लंबे समय के लिए करना होगा।

बहुत सारे लोग आयुर्वेदिक दवाओ का इस्तमा तो करते हैं लेकिन कुछ दिनों के बाद वह सोचने लगते हैं कि अभी तक कुछ फायदा क्यों नहीं हुआ है और कुछ दिन इस्तमाल करने के बाद वह उन दवाओं को खाना बंद कर देते हैं।

वह सही नहीं होता आप जब भी आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल करें पूरी खुराक के साथ करें ताकि उन आयुर्वेदिक दवाओं से आपकी बीमारियां पूरी तरह से खत्म हो सके।

Lasix Tablet Uses in Hindi – उपयोग, लाभ और कीमत

हिमालय सिस्टोन सिरप के फायदे

हिमालया सिस्टोन, पथरी की दवाई है तथा इसमें एंटीमाइक्रोबियल, कूलिंग, मूत्रवर्धक, लिथोट्रिपिक,एंटीलिथिएटिक, गुण हैं। इसे लेने से पथरी गलती है और पेशाब के रास्ते शरीर से निकल जाती है।

सिस्टोन फायदा करे गुर्दे की पथरी में

सिस्टोन पेशाब के रस्ते की पथरी के लिए विशेष दवाई है। इसमें स्टोंस को गलाने के गुण है। गल कर छोटी हुई पथरी पेशाब के साथ शरीर से बाहर चली जाती है। इसे लेने से पेशाब की मात्रा और फ्लो सही होता है जिससे पथरी से छुटकारा पाने में मदद होती है।

कैल्शियम ऑक्सलेट, यूरिक एसिड या कैल्शियम और फॉस्फेट की पथरी हो तो इसका इस्तेमाल करके देखें। यह पेशाब में क्रिस्टल जाने की समस्या में भी फायदा करती है। क्रिस्टल की समस्या में इसे चंद्रप्रभा वटी के साथ लेते हैं।

सिस्टोन रोके पथरी का बार बार बनना

सिस्टोन पथरी को बनने से रोकता है और घुला कर उसे बाहर निकालने में मदद करता है।

सिस्टोन में है सिस्टोन मूत्रल गुण

सिस्टोन में मूत्रवर्धक या डायरेक्टिक्स है और शरीर से पानी निकालने में मदद करता है।

सिस्टोन दे पेशाब की जलन से राहत

सिस्टोन लेने से पेशाब में जलन की समस्या दूर होती है। इसके एंटीमाइक्रोबियल गुण से पेशाब के रास्ते के संक्रमण यूटीआई में इसे लेने से जलन और इन्फेक्शन में फायदा होता है। इसके कूलिंग गुण से पेशाब करते समय जलन कम होने लगती है।

सिस्टोन करे पेशाब का PH ठीक

सिस्टोन, मूत्र PH को सही करता है।

सिस्टोन करे सही किडनी का फंक्शन

सिस्टोन को लेने से किडनी के सही फंक्शन में सहयोग होता है।

सिस्टोन से पेशाब रास्ते की सूजन में हो फायदा

सिस्टोन में सूजन कम करने और एंटीमिक्रोबियल गुण है। यूरिनरी सिस्टम की सूजन में इसे लेने से फायदा होता है।

Zerodol Sp Tablet – उपयोग,खुराक और फायदे-नुकसान

सिस्टोन टैबलेट का दुष्प्रभाव

हिमालय सिस्टोन टैबलेट एक आयुर्वेदिक दवा है। इसलिए इसका दुष्प्रभाव बहुत कम लोगों में देखा गया है। अगर आप हिमालया सिस्टोन टेबलेट का इस्तेमाल करते हैं और आप में किसी भी तरह का दुष्प्रभाव दिखता है तो आप तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर से संपर्क संपर्क करें।

हिमालय सिस्टोन टेबलेट का दुष्प्रभाव बहुत कम होने के बावजूद जो लोग जिगर की बीमारी और दिल की बीमारी से ग्रसित हैं। वे लोग बिना किसी डॉक्टर सलाह के इस टेबलेट का इस्तेमाल ना करें।

Digene Tablet – फायदे, नुकसान और कीमत

सिस्टोन टैबलेट की कीमत

सिस्टोन टैबलेट की कीमत कीमत100/- for 100 tablets

Vitamin A Chewable Tablet – प्रयोग, पराभव और लाभ

निष्कर्ष : दोस्तों, सिस्टोन टेबलेट के बारे में आपको पूरी जानकाररी दी है अगर जानकारी पसंद आयी तो कमेंट करके बताये और पोस्ट को अपने दोस्तों से भी शेयर करें ताकि उनको भी सिस्टोन टेबलेट के बारे में जानकारी मिले।