भंगी जाति का इतिहास : भंगी शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई?

Bhangi Caste क्या है, यहाँ आप भंगी जाति के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे। इस लेख में आपको भंगी जाति के बारे में हिंदी में जानकारी मिलेंगी।

Bhangi Caste

भंगी जाति क्या है? इसकी कैटेगरी, धर्म, जनजाति की जनसँख्या और रोचक इतिहास के बारे में जानकारी पढ़ने को मिलेगी आपको इस लेख में।

जाति का नामभंगी जाति
भंगी जाति की कैटेगरीअनुसूचित जाति
भंगी जाति का धर्महिन्दू धर्म

अगर बात करें भंगी जाति की तो भंगी जाति कौनसी कैटेगरी में आती है? भंगी जाति के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए पोस्ट को पूरा पढ़ें। तो आओ शुरू करतें है भंगी जाति के बारे में :-

भंगी जाति

हजारों वर्षों तक विदेशी आक्रमणकारियों और आक्रमणकारियों से लड़े और उन्हें धूल चटाते रहे। यह जाति सभी आक्रमणकारियों की रणनीतियों को तोड़ती थी। और उन्हें नष्ट कर देगा। इसलिए इस जाति को घुसपैठिए भंगी कहते थे।

भंगी जाति की उत्पत्ति

एक प्रकार से यह अध्याय भंगी शब्द की उत्पत्ति पर प्रकाश डालता है। इसलिए इन पंक्तियों के रचयिता भी क्षमा के साथ इस शब्द का प्रयोग कर रहे हैं।

श्यामलाल जी का मानना है कि मैला ढोने वाले हर सभ्यता में थे। पुलक, स्वपच और चांडाल के नाम प्राचीन हिंदू ग्रंथों में भी मिलते हैं, जो सफाई का गंदा काम करते थे।

भंगी शब्द का पर्याय

भंगी शब्द के पर्यायवाची शब्द को समझने में हमें बहुत सावधानी बरतने की जरूरत है क्योंकि यह सच है कि आज ‘सफाई’ का काम भंगी का पर्याय बन गया है, लेकिन अब तक के अध्ययन से ज्ञात होता है कि पूर्व में सफाई का पेशा नहीं होता भंगी का पर्याय बन गया है।

भंगी जाति की कैटेगरी

वाल्मीकि या भंगी समाज आज का वाल्मीकि समाज या भंगी समाज का इतिहास बहुत ही गौरवशाली और वीर कहानियों से भरा रहा है। प्राचीन काल में यह समाज शासक वर्ग रहा है। लेकिन आज इस समाज की स्थिति बहुत दयनीय है। यह जाति क्षत्रिय जाति थी।

भंगी जाति का इतिहास

मुगल या अन्य मुस्लिम सम्राटों के आने के बाद राजनीतिक कैदी जो क्षत्रिय सैनिक थे, डंपिंग का घिनौना काम करने को मजबूर थे, उस समय के पेशे को भंगी नाम दिया गया था। उन्हें सफाईकर्मी भी कहा जाता था। लेकिन वर्तमान नाम भंगी भी लोकप्रिय हो गया और समय के साथ यह शब्द बड़ी नफरत का विषय बन गया।

भंगी जाति के बारे में जानिए

1857 की क्रांति को घोषित किया गया पहला स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। इस पूरी क्रांति का श्रेय भारतीय इतिहासकारों ने मंगल पांडे को दिया है, लेकिन वास्तव में इस क्रांति के सूत्रधार मातादीन भंगी थे। माना जाता है कि मातादीन भंगी मूल रूप से मेरठ के रहने वाले थे।

भंगी जाति कैसे बनी

मुगल या अन्य मुस्लिम सम्राटों के आने के बाद राजनीतिक कैदी जो क्षत्रिय सैनिक थे, डंपिंग का घिनौना काम करने को मजबूर थे, उस समय के पेशे को भंगी नाम दिया गया था। उन्हें सफाईकर्मी भी कहा जाता था। लेकिन वर्तमान नाम भंगी भी लोकप्रिय हो गया और समय के साथ यह शब्द बड़ी नफरत का विषय बन गया।

अन्य जातियों के बारे में जानकारी

Nadar Caste – नादर जातिGowda Caste – गौड़ा जाति
Goswami Caste – गोस्वामी जातिThakur Caste – ठाकुर जाति
Bhumihar Caste – भूमिहार जातिPatel Caste – पटेल जाति
Srivastava Caste – श्रीवास्तव जातिParmar Caste – परमार जाति
Bisht Caste – बिष्ट जातिLingayat Caste – लिंगायत जाति

हम उम्मीद करते है की आपको भंगी जाति के बारे में सारी जानकारी हिंदी में मिल गयी होगी, हमने भंगी जाति के बारे में पूरी जानकारी दी है और भंगी जाति का इतिहास और भंगी जाति की जनसँख्या के बारे में भी आपको जानकारी दी है।

Bhangi Caste की जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी, अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो हमे कमेंट में बता सकते है। धन्यवाद – आपका दिन शुभ हो।

x